25 नवंबर से PhonePe आपके डाटा पर लगाएगा सेंध, मोबाइल नंबर और UPI ID करेगा शेयर

 आज के समय में UPI ऐप्स का इस्तेमाल तो हम सभी करते हैं। कहीं भी ऑनलाइन पेमेंट के लिए ज्यादातर हम इन्हीं ऐप्स पर निर्भर रहते हैं। इन्हीं में से एक ऐप है PhonePe. इस ऐप का इस्तेमाल लाखों-करोड़ों लोग करते हैं। अब PhonePe अपने यूजर्स को एक नोटिफिकेशन्स भेज रहा है। इस नोटिफिकेशन में यह बताया गया है कि नई UPI गाइडलाइन्स जारी की गई हैं जिसके तहत अब यूजर्स की UPI ID और मोबाइल नंबर को NPCI के साथ शेयर किया जाएगा। बता दें कि NPCI की फुल फॉर्म नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया है।

25 नवंबर से लागू होगा नया नियम: बता दें कि यह नया नियम 25 नवंबर से शुरू होगा। इस दिन से ही यूजर्स का मोबाइल नंबर और UPI ID NPCI के साथ शेयर किया जाएगा। कंपनी ने जो नोटिफिकेशन यूजर्स को दी है उस पर क्लिक कर जो जानकारी सामने आती है उसके मुताबिक, इससे आप अपने मोबाइल नंबर पर PhonePe या किसी यूपीआई ऐप से पैसे प्राप्त कर सकेंगे। साथ ही कंपनी ने यह भी सुनिश्चित किया है कि यूजर्स सुरक्षित रूप से पैसा भेज पाएंगे।

कंपनी ने दिया इन सवालों का जवाब:

क्या NPCI डाटाबेस में नंबर रजिस्टर करना है जरूरी: NPCI की नई गाइडलाइन के अनुसार, हमें PhonePe पर रजिस्टर्ड मोबाइल (UPI नंबर) को NPCI के डाटाबेस में एड करना होगा और उसे UPI ID से लिंक करना होगा। इससे आप सिर्फ UPI नंबर का ही इस्तेमाल करके पेमेंट रिसीव कर पाएंगे। इससे आप किसी भी अन्य पेमेंट ऐप के द्वारा सिर्फ अपना UPI नंबर इस्तेमाल करके पेमेंट रिसीव कर पाएंगे। भले ही आप उस ऐप पर रजिस्टर्ड हों या नहीं। उदाहरण के लिए: अगर आपके किसी दोस्त को आपको पैसे भेजने हैं लेकिन उसके पास PhonePe अकाउंट नहीं है तो वह किसी भी अन्य पेमेंट ऐप के द्वारा आपका UPI नंबर इस्तेमाल करके पैसे भेज पाएंगे। यह राशि आपके उस अकाउंट में जाएगी जिसे आपने प्राइमरी बैंक अकाउंट के तौर पर अपने UPI नंबर के साथ जोड़ा होगा। ध्यान रखें जब आपका PhonePe रजिस्टर्ड नंबर आपके 10 डिजिट के UPI नंबर के तौर पर NPCI के डाटाबेस में जोड़ा जाएगा तब आपको नोटिफिकेशन प्राप्त होगी। - सौजन्य

एक टिप्पणी भेजें

कृपया लेख पर आपकी महत्वपूर्ण टिप्पणी करें ! ब्लॉग को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे |

और नया पुराने