मेरा गांव/ नरेश मेहन


 गांव से आए हो बताओ

 क्या हाल है

 मेरे गांव के

 क्या अब भी 

वैसा ही है

 मेरा गांव ।

 पगडंडियां 

अब भी 

लेती होगी

 घने पेड़ों की छांव।

 जिस पर पड़ते होंगें ग्वालों के पांव ।

  आज भी

 आती होगी

 गांव में

 सरसों के फूलों की महक

 जब आता होगा

 बसंत का झोंका

 मेरे गांव में ।

 अब भी

 नव यौवन सा

 संवर जाता होगा

 जब बरसात में चिड़िया चहकती है और मोर

 तानता है छतर ।

अब भी

 ऋतुएं

 जीवन को संवारने 

पसारती होगी पांव और 

थिरक उठते होंगे

 मोरो जैसे

 युवाओं के पांव ।

 बताओ ना 

क्या अब भी

 वैसा ही है

 मेरा गांव।

 या

 वह भी हो गया है ठीक शहर जैसा

 बिना सिर

बिना पांव ।

Post a Comment

कृपया लेख पर आपकी महत्वपूर्ण टिप्पणी करें ! ब्लॉग को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे |

और नया पुराने