पैट्रोल बना शताब्दी - गुरदीप सिंह सोहल


 पैट्रोल बना शताब्दी।

डीजल भी है तैयार।।

दिनों दिन बढ़ रहा।

जेब से हो रहा पार।।

मांग होवे तो दर बढ़े। 

रोज रोज बढ़े वपार।।

पेट्रोल रोज न मिले।

कैसे चले मेरी कार।।

पुतला फूंके रेट घटे।

तो मै फूकूं हजार।।

बार बार के फूंकते। 

ठीक न होवे बाजार।।

लोक डाउन की कसर।

निकाल रही सरकार।।

बाजार करना ठीक हो।

तो करो सब बहिस्कार।

मांग रहेगी न बिकेगा।

ऐसे ठीक होगा बाजार।

आदत बदल लो अपनी।

जीप कार छोड़ दो यार।

साईकिल पे आ जाओ।

सभी मर्द बनो सरदार।।

मांग न रहेगी जब भी।

चले कैसे सब बाजार।

ग्राहक जब जागेगा।

नीचे होगी सरकार।।

पानी के भाव बिकेगा।

जब होगी न दरकार।।

सोहल की मान लो।

क्यों धरना बार बार।।

गुरदीप सिंह सोहल  Retd AAO PWD  हनुमानगढ़ जंक्शन राजस्थान

Post a Comment

कृपया लेख पर आपकी महत्वपूर्ण टिप्पणी करें ! ब्लॉग को अपने दोस्तों के साथ शेयर करे |

और नया पुराने