प्रेम एक ऐसी चीज है जो हारे हुए व्यक्ति को भी जीता देती है। लेकिन घृणा एक पूरी तरह से सफ़ल हुए व्यक्ति को भी नीचे गिरा देती है।

आजादी की लहर - पवन शर्मा जैतसीसर (चूरु)

आजादी की लहर


 आजादी की लहर आई थी।
मानो उन गोरो के लिए 
मुसीबतों कहर  का लाई थी।
अरे उन वीरों का साहस ही 
कुछ ऐसा था ना कभी रुके 
ना कभी झुके ,वो वह तो सिर्फ
आजादी खातिर आगे बढ़े।
अरे उनमें तो आजादी का जुनून 
ही कुछ ऐसा था कि वो
आखिरी सांस तक लड़े।
और दुशमनों पर भारी पड़े।
ऐसे वीरों को में सलाम करता हूं।
मात्र भूमि के सच्चे सपुतो को
प्रणाम करता हूं।

जय हिन्द जय भारत

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

buttons=(Accept !) days=(20)

हमारी वेबसाइट आपके अनुभव को बढ़ाने के लिए कुकीज़ का उपयोग करती है। अधिक जानें
Accept !